बॉलीवुड मूवी के फनी नाम                                    

                                                                         
https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
बॉलीवुड मूवी के फनी नाम का थंबनेल


 बॉलीवुड की फ़िल्मी दुनिया में एक फिल्म का निर्माण करने अनेक सदस्यों के आलावा अभिनेता, अभिनेत्री, लेखक निर्देशक ऐसे कई लोग महीनो या फिर वर्षों का समय खपा कर फिल्म निर्माण में अपना दिल और जान डालकर उसे सफल करने के लिए प्रयास करते है। 

          हर फिल्म निर्माता अपनी फिल्म को सफलता दिलाने उसका नामकरण करने में माथा - पच्ची कर ऐसा नामकरण करना चाहते है कि उनकी फिल्म का नाम प्रत्येक सिनेमा प्रेमी की जुबान पर चढ़कर बोले। इसी के चलते डबल मीनिंग का सहारा भी लेते है। जैसे फिल्म " अँधेरी रात में दिया तेरे हाथ में " इस पोस्ट में ऐसे ही कुछ मजेदार फिल्मों के नाम के साथ अन्य जानकारी प्रदान कर रहे है। जिसे पढ़कर आप अपनी हँसी रोक नहीं पायेंगे।  

फिल्म - " अँधेरी रात में दिया तेरे हाथ में " [1986]

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
  
                                        
https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html

                                       "अँधेरी रात में दिया तेरे हाथ में " फिल्म का पोस्टर
सारांश -  फ़िल्म की कहानी में दो दोस्त रुपयों के लालच में अंडरवर्ल्ड से जुड़ जाते है और ऐशो-आराम की ज़िन्दगी जीते है। फ़िल्म की कहानी में तब मोड़ आता है, जब उनमे से दोस्त को इसके दुष्परिणामों का अहसास होता है और वह सामान्य जीवन जीना चाहता है।

फ़िल्म के निर्माता-निर्देशक:- दादा कोंडके। लेखक:- दादा कोंडके और राजेश मजूमदार। संगीत:-राम लक्ष्मण। कलाकार :- दादा कोंडके, उषा चव्हाण, दिन पाठक, महमूद, अमजद खान, यूनुस परवेज, बीरबल और सुधीर दलवी।

फ़िल्म
"शादी के साइड / इफेक्ट्स" 2014 


https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " शादी के साइड /इफेक्ट्स का पोस्टर

      सारांश:-फ़िल्म की कहानी मुंबई में रहनेवाले एक विवाहित जोड़े सीड [फरहान अख्तर] हुए त्रिशा [विद्या बालन] के इर्द-गिर्द घूमती है। प्रारंभ में उन्हें गहरे प्रेम में डूबे एक खुशहाल जोड़े के रूप में चित्रित किया गया है।

निर्माता:-एकता कपूर, शोभा कपूर और प्रीतिश नंदी। निर्देशक:-साकेत चौधरी। लेखक:-जीनत लखानी और साकेत चौधरी। संगीत:-प्रीतम। बजट अनुमानित 430 मिलियन। कलाकार:-फरहान अख्तर, विद्या बालन, राम कपूर, वीरदास और नितेश पांडेय।

फ़िल्म
"घर में हो साली तो पूरा साल दिवाली" 2001
                                     

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " घर में हो साली तो पूरा साल दिवाली " का पोस्टर
                       सारांश:-एक सफल युवा कॉर्पोरेट कर्मचारी किशन का विवाह रमा नाम की महिला से होता है, जो धर्म और परंपरा में गहरी आस्था रखती है। अपने विवाह की रात, जब किशन रमा को चूमने का प्रयास करता है तो वह जवाब देने से इंकार कर देती है। निर्माता:-कमला शर्मा। निर्देशक:-पप्पू शर्मा। लेखक:-नरेश नामदेव। संगीत:-बबली हक़। कलाकार:-संजीवनी गुप्ता, अनिल नागरथ, अमित पचौरी, अमन सागर और विनोद त्रिपाठी।

फ़िल्म
"दिलरुबा तांगेवाली" 1987
                                         
https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " दिलरुबा तांगेवाली " का पोस्टर
सारांश:-दूरदराज के गाँव में एक डकैत शंकर सिंह आतंकित रहता है, जो अनाज के लिए लोगों को लुटता है, उसे गाँव के ठाकुर ने मार डाला है। उसका छोटा भाई किशन सिंह बदला लेने की क़सम खाता है। किशन सिंह ठाकुर और उसके परिवार को मारने की योजना बनाता है। परन्तु, उसका वफादार नौकर शेर खान भागने में सफल हो जाता है।

निर्माता:-मोहन टी. गेहानी। निर्देशक:-एस. आर. प्रताप। लेखक:-खालिद। संगीत:-अनवर उस्मान। कलाकार:-हेमंत बिरजे, कृष्णा, प्राण, राजेंद्र नाथ, श्रीपदा और चाँद उस्मानी।  

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

फिल्म " धोती लोटा और चौपाटी " 1975                                         

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " धोती लोटा और चौपाटी " का पोस्टर
सारांश:-फ़िल्म में जुहू चौपाटी के पास रहनेवाले विभिन्न किरदार मिलते है, फ़िल्म रोमांटिक, हास्य और लड़ाई के दृश्य साझा करती है। यह फ़िल्म रिवर्स कास्टिंग के लिए याद की जाती है कारण इस फ़िल्म में धर्मेंद्र और संजीव कुमार जैसे मुख्य अभिनेताओं ने छोटे किरदार निभाय है, जबकि आमतौर पर मोहन चोटी तथा फरीदा जलाल द्वारा निभाय किरदार ही मुख्य किरदार है। निर्माता-निर्देशक:-मोहन चोटी। लेखक:-जगदीश मुख़र्जी। संगीत:-श्यामजी घनश्यामजी। कलाकार:-मोहन चोटी, धर्मेंद्र, राजेन्द्रनाथ, प्रेमनाथ, नासिर हुसैन, फरीदा जलाल और शोभा खोटे तथा अन्य।

फ़िल्म
" अल्लाह मेहरबान तो गधा पहलवान " 1997

                                                  

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म "अल्लाह मेहरबान तो गधा पहलवान " का पोस्टर

सारांश:-वसंत की तरह हर चीज की एक छोटी शुरुवात होती है। जब भगवान् कृपालु हो जाते है तो वह व्यक्ति मज़बूत हो जाता है। जैसे कहते है, हो लगन दिल में इरादा नेक हो तो मंज़िल का पता ना हो फिर भी सफलता मिलती है। निर्माता-निर्देशक:-रविंद्र अरोड़ा। लेखक:-अहसान भारती। संगीत:-कीर्ति अनुराग, साजन। कलाकार:-जाहिद अली, समीर चंद्र, शक्ति कपूर, कादर खान, कुलभूषण खरबंदा, मालाश्री, महेश राज और आशा शर्मा।

 फिल्म " सस्ती दुल्हन महँगा दूल्हा " 1986   

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " सस्ती दुलहन महंगा दूल्हा " का पोस्टर
      सारांश:-नागपुर में एक पिता को अपनी तीन बेटियों का विवाह करने के लिए संघर्ष करना पड़ता है। कारण उसके पास दहेज़ देने के लिए रूपये नहीं होते। उसके सबसे बड़े भाई ने पुलिस से दूल्हे के पिता को दहेज़ की मांग करते हुए गिरफ्तार करवा दिया, जिससे परिवार की प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचती है। तीनो स्वयं को दोषी मानकर अपने-अपने घर छोड़ देती है। निर्माता-निर्देशक:-भप्पी सोनी। संगीत:-उषा खन्ना। कलाकार:-महेश आनंद, अरुण, बीना बनर्जी, राज भारती, सुधीर दलवी, जानकी दास, गोगा कपूर तथा अन्य कलाकार।

फ़िल्म
" मटरू की बिजली का मंडोला " 2013                                    

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " मटरू की बिजली का मंडोला " का पोस्टर

    सारांश:-फ़िल्म "मटरू की बिजली का मंडोला" एक व्यंगात्मक ब्लैक कॉमेडी फ़िल्म है। पूरी फ़िल्म तीन व्यक्तियों हरफूल सिंह मंडोला [हैरी] उनकी बेटी बिजली मंडोला और हुकुम सिंह [मटरू] की कहानी बयान करती है। निर्माता-निर्देशक:-विशाल भारद्वाज। लेखक:-विशाल भारद्वाज और अभिषेक चौबे। संगीत:-विशाल भारद्वाज। प्रोडक्शन कंपनी:-वीबी पिक्चर्स और फॉक्स स्टार स्टूडियो। बजट:-45 करोड़। कलाकार:-पंकज कपूर, इमरान खान, नवनीत निशान, अनुष्का शर्मा, शबाना आजमी, आर्य बब्बर और रणवीर शौरी।

फ़िल्म " जाने भी दो यारों " 1983

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " जाने भी दो यारों " का पोस्टर

सारांश:-विनोद चोपड़ा और सुधीर मिश्रा एक पेशेवर फोटोग्राफर होते है। वे मुंबई में एक फोटो स्टूडियो खोलते है परन्तु उनकी दूकान नहीं चलती। उन्हें "खबरदार" प्रकाशन के सम्पादक द्वारा काम दिया जाता है। "खबरदार" शहर के आमिर और प्रसिद्ध लोगों के अपवादात्मक जीवन को उजागर करता है।

               वे दोनों फोटोग्राफर सम्पादक शोभा सेन के साथ मिलकर एक बेईमान बिल्डर तथा भ्रष्ट नगर निगम आयुक्त के चल रहे भ्रष्टाचार को प्रकाश में लाने के लिए काम शुरू कर देते है। निर्माता:-राष्ट्रीय खनिज विकास निगम [NMDC] निर्देशक:-कुंदन शाह। लेखक:-रणजीत कपूर और सतीश कौशिक। संगीत: - वनराज भाटिया। कलाकार:-नसीरुद्दीन शाह, रवि बसवानी, ओमपुरी, पंकज कपूर, सतीश शाह, भक्ति बर्वे, राजेश पूरी, सतीश कौशिक और नीना गुप्ता।

फिल्म " जल बिन मछली नृत्य बिन बिजली " 1971                                                   

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " जल बिन मछली नृत्य बिन बिजली " का पोस्टर

सारांश : - अलकनंदा अपने विधुर पिता डॉ. वर्मा के साथ एक समृद्ध जीवन शैली जीती है। वह नृत्य तथा गायन की इस हद तक शौक़ीन है कि वह अपने पिता द्वारा चुने गए दूल्हे से विवाह करने से मना कर देती है। वह ललितपुर भाग जाती है, गीत और नृत्य मंडली में शामिल हो जाती है। वहां उसका परिचय राजकुमार से हो जाता है। राजकुमार कैलाश उसे अपने महलनुमा घर ' ललित महल ' में रहने देता है। कैलाश और अलकनंदा में प्यार हो जाता है। निर्माता - निर्देशक : वी. शांताराम। संगीत : - लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल। कलाकार : - संध्या, वत्सला देशमुख, इफ्तिखार, राजा परांजपे, बीरबल, दिन पाठक और सिद्धार्थ।

फिल्म " मेरी बीवी  की शादी " 1979 
                                             

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
                                     फिल्म " मेरी बीवी की शादी " का पोस्टर                                                                                                       सारांश: - फ़िल्म का नायक भगवंत कुमार भारतेन्दु को साइन सीने में दर्द का अनुभव होता है, तो वह निराश होकर हाइपोकोन्ड्रियाक जांच के लिए अस्पताल जाता है और अपने डॉक्टर को एक सहयोगी के साथ एक असाध्य रूप से बीमार रोगी के निदान पर चर्चा करते हुए सुनता है। यह सुन कर वह मान लेता है कि उसकी होनेवाली है।

         भगवंत अपने मित्र से उसकी पत्नी प्रिया के लिए एक नया पति खोजने में सहायता मांगता है। इस बीच, प्रिया अपने पति की साजिशों को विवाहेतर सम्बन्ध छुपाने का प्रयत्न समझती है और उसे घर से बाहर निकाल देती है। निर्देशक:-रजत रक्षित। संगीत:-उषा खन्ना। कलाकार:-अमोल पालेकर, रंजीता कौर, अशोक सराफ, बीरबल, प्रीती गांगुली और जानकीदास।

फिल्म " दो लड़के दोनों कड़के " 1979         
                                             

https://www.makeinmeezon.com/2024/05/funnynames.html
फिल्म " दो लड़के दोनों कड़के " का पोस्टर
सारांश : -  हरि और रामू, दो छोटे चोर उस घर को लूटने का फैसला करते हैं जहां से अपहरणकर्ताओं ने एक बच्चे का अपहरण करने का फैसला किया था। जब बच्चा छोटे चोरों के पास पहुँच जाता है तो अराजकता फैल जाती है और चोर तथा अपहरणकर्ता दोनों फिरौती का दावा करते हैं। बच्चे के माता-पिता द्वारा दिए गए पुरस्कार का दावा करने के लिए मिश्रित पात्र दिखाई देते हैं।  निर्माता : - जयंत मुख़र्जी। निर्देशक : - बासु चटर्जी। संगीत : - हेमंत कुमार। कलाकार : - नवीन निश्चल, अमोल पालेकर, मौशमी चटर्जी, असरानी, केश्तो मुखर्जी, इफ्तेखार, रंजीत और दिना पाठक। 
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
facebook page Join Now